FB Twitter Youtube G+ instagram
| तक के समाचार
Asha News Mail

Ads By Google info

ताजा खबरें
Loading...
मोदी के नहाने से गंगा मैली हो जाएगी : हरिप्रसाद
लोकसभा चुनाव के दौरान नेताओं के बेतुके बयानों का सिलसिला थम नहीं रहा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने शनिवार को कहा कि मोदी के नहाने से गंगा मैली हो जाएगी। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव बी.के.हरिप्रसाद ने शनिवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वर्ष 2002 में.... और देखे►
विज्ञापन

जिहाद का खुमार

Print Friendly and PDF
       माता पिता को कई दिनों तक पता नहीं चलता कि उनकी बेटियां कहां हैं। फिर एक फोन आता है, बेटी बताती है कि वह सीरिया में है और लड़ाई में मर्दों की मदद के लिए इस्लामिक स्टेट की सदस्य बन गई हैं।उत्तर सीरिया के राक्का शहर पर कुछ महीनों से इस्लामिक स्टेट आईएस के कट्टरपंथियों ने कब्जा किया हुआ है। आईएस के हथियारबंद पहरेदार पूरे शहर में फैले हुए हैं। वह वहां रह रहे लोगों पर नजर रखते हैं, देखते हैं कि महिलाओं ने बुर्का सही तरह से पहना है या नहीं और क्या शहर में सबकुछ शरिया कानून के मुताबिक चल रहा है। तनाव भरे इस माहौल में एक महिला इंटरनेट कैफे पहुंचती है। अपने लंबे काले बुर्के के नीचे उसने एक वीडियो कैमरा छिपाया हुआ है। इससे वह इंटरनेट कैफे में बैठे लोगों का वीडियो बनाती है। इस वीडियो को फ्रांस 24 और फ्रांस 2 टेलिविजन चौनलों ने सार्वजनिक किया है। 
                   फिल्म में कैफे के एक कंप्यूटर पर बैठी दो लड़कियों को देखा जा सकता है। वह फ्रांस में अपने माता पिता से इंटरनेट के जरिए बात कर रही हैं, श्मां मैं वापस नहीं आऊंगी। वापस आने की बात तो तुम भूल जाओ।श् फ्रेंच में अपनी मां से बात कर रही लड़की आगे बोलती है, श्मैंने यहां तक पहुंचने के लिए इतना जोखिम इसलिए नहीं उठाया ताकि मैं फ्रांस वापस लौट जाऊं....। मैं यहां रहना चाहती हूं। मुझे यहां अच्छा लग रहा है। टीवी में तो बढ़ा चढ़ा कर बोलते हैं।श् लंदन के किंग्स कॉलेज ने एक रिपोर्ट जारी किया है जिसमें लिखा है कि यूरोप से सीरिया जाने वाली महिलाओं की उम्र अकसर 16 और 24 साल के बीच होती है। इनमें से ज्यादातर के पास कॉलेज की डिग्री होती है। 
             माना जाता है कि यूरोप के देशों से 3000 युवा महिलाएं और पुरुष आईएस का सदस्य बनने सीरिया चले गए हैं। इनमें से 10 प्रतिशत महिलाएं हैं। जिहाद का खुमार रू राक्का के इंटरनेट कैफे में अपनी मां से बात कर रही महिला भी फ्रांस से आई है। फ्रांस से ही 60 महिलाएं और किशोरियां आईएस में शामिल होने आई हैं। फ्रांस के अधिकारियों के मुताबिक वह 60 और महिलाओं पर निगरानी रख रहे हैं क्योंकि उन पर शक है कि वह आईएस का सदस्य बनने सीरिया जाने वाली हैं। ब्रिटेन से भी 50 महिलाएं और किशोरियां सीरिया में आईएस की सदस्य बन गई हैं। इनमें से ज्यादातर राक्का शहर में हैं और कुछ लड़ाई में भी हिस्सा ले रही हैं। जर्मनी में माना जा रहा है कि 40 महिलाएं इराक और सीरिया में आईएस का हिस्सा बन चुकी हैं। इनमें से ज्यादातर अपने माता पिता से पूछे बिना वहां गई हैं। जर्मनी की घरेलू खुफिया सेवा फरफासुंगशुत्स के प्रमुख हंस गेयोर्ग मासेन ने राइनिशे पोस्ट अखबार को एक इंटरव्यू में बताया, श्कई नाबालिग लड़कियों को जिहादियों की दुल्हन बनना रुमानी लगता है। वे फिर उन युवा जिहादियों से शादी करती हैं जिनसे इंटरनेट पर मिली हैं।श् ज्यादातर लड़कियां अपना घर इस उम्मीद में छोड़ती हैं कि उन्हें सीरिया और इराक के लड़ाकों में अपने सपनों का राजकुमार मिलेगा और वह उससे शादी करेंगे। इनमें से कई इन पुरुषों से यूरोप में मिली थीं। पहले फ्रांस की खुफिया एजेंसी में काम कर चुके लुई काप्रियोली कहते हैं कि ऐसी महिलाएं जिहादियों को उनकी लड़ाई में सहारा देना चाहती हैं और बच्चे पैदा करना चाहती हैं ताकि इस्लाम के फैलने में मदद कर सकें। इंटरनेट पर सदस्यों की खोज रू बेल्जियम में मोंतासेर अल देमेह अंटवैर्प विश्वविद्यलय में इस्लामी कट्टरपंथ पर शोध कर रहे हैं। अल मोनिटर नाम की वेबसाइट पर वह कहते हैं कि यूरोप में दक्षिणपंथी पार्टियों के इस्लाम विरोधी प्रचार की वजह से कम उम्र की महिलाएं आतंकवादी संगठनों की सदस्य बन रही हैं। इसके अलावा इन महिलाओं के बचपन के अनुभव का भी असर पड़ता है। अल देमेह बताते हैं, श्इन लड़कियों को अकसर लगता है कि समाज में उनके लिए कोई जगह नहीं है। उनके समुदाय के मुस्लिम भी उन्हें स्वीकार नहीं करते, जब वे दूसरे मुस्लिमों से संपर्क करती हैं, जो बिलकुल ऐसा महसूस करते हैं तो उन्हें लगता है कि उन्हें प्यार और स्वीकृति मिल रही है।श् ऐसे में सोशल नेटवर्क बड़ी भूमिका निभा रहे हैं। वहां यूरोप के समाज में अपनी पहचान खोज रही महिलाएं और लोगों से मिलती हैं और योजनाएं बनाती हैं कि वह तुर्की से सीरिया कैसे पहुंचेंगी। 
          जो महिलाएं सीरिया में पहले से हैं, वह इंटरनेट के जरिए यूरोप में अपनी श्बहनोंश् को जिहाद में आकर मदद करने के लिए आमंत्रित करती हैं। वह आईएस के बनाए गए खिलाफत और वहां की जिंदगी की एक खूबसूरत तस्वीर बनाती हैं। यूरोप से जाने वाली महिलाओं को पैसों का लालच भी दिया जाता है। लेकिन सीरिया पहुंचने के बाद तस्वीर अलग होती है। संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि आईएस के जिहादियों ने 1500 महिलाओं और किशोरियों को यौन बंदी बना रखा है और कई महिलाओं को बेचा भी है। उनके साथ बुरा सलूक किया जाता है। कुछ महिलाएं सीरिया से वापस जर्मनी भी आ चुकी हैं।
Edited by: Editorial Team
खबर शेयर करे !

By: Asha News 10/11/14 | 9:51 AM

मोबाइल पर ताजा खबरें, http://m.ashanews.com पर.
Download App

व्हाट्स एप् ब्राडकॉस्ट सेवा से जुड़े

आशा न्यूज़ व्हाट्स एप्प ब्राड कॉस्ट सेवा से जुड़ने के लिए हमारे मोबाईल नंबर 8989002005 पर व्हाट्स एप्प मैसेज करे टाइप करे JOIN ASHANEWS और भेज दे व्हाट्स एप्प नंबर 8989002005 पर अगले 24 घण्टे में जिले और आपके क्षेत्र की ताजा और सटीक खबरे आपके मोबाइल पर निःशुल्क न्यूज़ सेवा शुरू कर दी जाएगी

आपकी राय
Vuukle
Google
Facebook

हिंदी में यहाँ लिखे

आपके विचार

न्यूज़ रील


अब न्यूज़ आपके ईमेल पर

@ Editor

अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- editorashanews@gmail.com 
या ऑनलाइन भेजने के लिए यहाँ क्लिक करे
विज्ञापन

Ads By Google info

Like Us On Facebook

Circle Us On Google+

Subscribe On Youtube

एंड्राइड ऐप्प

आशा न्यूज़ मुहीम

रक्तदान - blood bank india बेटी है वरदान -save-girl-child वृक्ष लगाओ पेड़ लगाओ- save tree-planet जल संग्रह- save water

मौसम

Weather, 04 May
Bhopal Weather
+33

High: +33° Low: +25°

Humidity: 30%

Wind: SW - 9 KPH

Whatsapp


स्कोरकार्ड

पसंदीदा ख़बरें

 
Editor In Chief: Dr. Umesh Sharma
Copyright © Asha News . For reprint rights: ASHA Group